Dr. B.R. Ambedkar: The Maker of Modern India (2016)

Authors
Desh Raj Sirswal
Panjab University
Abstract
लोकतान्त्रिक अधिकार वर्तमान समय का महत्वपूर्ण और प्रसांगिक प्रश्न बन चुका है. देश के भौतिक और आर्थिक विकास की कीमत आम लोगों के लोकतान्त्रिक अधिकारों के हनन के द्वारा दी जा रही है. वर्तमान परिस्थितियाँ हमें किसी सम्भावित सामाजिक क्रांति की ओर अग्रसर कर रहीं है. पिछली शताब्दी की जिस सामाजिक क्रांति की बदौलत भारत में आज हम स्वतन्त्रता, समानता और भ्रातृत्व की बात करते है, उसमें साहूजी महाराज, ज्योतिबा फुले, नारायण गुरु और डॉ. अम्बेडकर का बहुत बड़ा योगदान रहा है । इन तमाम महापुरुषों के संघर्षो के परिणामस्वरूप ही हमे बोलने की, लिखने की, अपनी मर्ज़ी से पेशा चुनने की, संगठन खड़ा करने की, मीडिया चलाने की आज़ादी मिली है अन्यथा जातिगत भेदभाव को गलत नहीं माना जाता, छुआ-छूत को कानूनी अपराध घोषित नहीं किया जाता, स्त्री स्वतंत्रता की बात कौन करता. राष्ट्रिय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर लोकतान्त्रिक अधिकारों के संघर्ष पर हमें बहुत कुछ पढने और सुनने को मिलता है लेकिन जब भी हम भारत के विद्वानों की तरफ देखते हैं तो आमतौर पर डॉ. अम्बेडकर जी को केवल दलितों के मसीहा और संविधान का रचियता भर कह कर बात खत्म कर दी जाती है. चाहे हम इसे लोकतान्त्रिक अधिकार कहें या मानवाधिकार कहें. डॉ अम्बेडकर जी ऐसे व्यक्तित्व हैं जिनके सामाजिक योगदान को हम नकार नहीं सकते क्योंकि उनके विचारों और संघर्ष का प्रभाव आज हम भारतीय समाज पर निर्विवाद देख सकते हैं. प्रस्तुत लेख का उद्देश्य डॉ. भीमराव अम्बेडकर जी के योगदान को वर्तमान लोकतान्त्रिक अधिकारों के संघर्ष के इतिहास के सन्दर्भ में अध्ययन करना है.
Keywords Dr. B.R. Ambedkar  Human Rights  Social Justice  Casteism
Categories (categorize this paper)
Options
Edit this record
Mark as duplicate
Export citation
Find it on Scholar
Request removal from index
Translate to english
Revision history

Download options

PhilArchive copy

 PhilArchive page | Other versions
External links

Setup an account with your affiliations in order to access resources via your University's proxy server
Configure custom proxy (use this if your affiliation does not provide a proxy)
Through your library

References found in this work BETA

No references found.

Add more references

Citations of this work BETA

No citations found.

Add more citations

Similar books and articles

Casteism, Social Security and Violation of Human Rights.Desh Raj Sirswal - 2012 - In Manoj Kumar (ed.), Human Rights for All. Centre for Positive Philosophy and Interdisciplinary Studies (CPPIS), Pehowa (Kurukshetra). pp. 128-131.
DR. AMBEDKAR'S IDEAS ON EDUCATION AND SOCIAL CHANGE.Desh Raj Sirswal - 2011 - Wesleyan Journal of Research 4 (01):180-183.
Dr. B.R. Ambedkar: The Maker of Modern India.Desh Raj Sirswal (ed.) - 2016 - Centre for Positive Philosophy and Interdisciplinary Studies (CPPIS), Pehowa (Kurukshetra).
Ambedkar's Inheritances.Aishwary Kumar - 2010 - Modern Intellectual History 7 (2):391-415.
Dô. Ambedakara Cintana.Ke Sava Me Srama - 1992 - Lokavanmaya Grha.
Bharatiya Prabodhana Ani Nava Ambedakaravada.Sripala Sabanisa - 1992 - Madhuraja Pablike Sansa Ekameva Vitaraka Diliparaja Praka Sana.
SOCIAL EVILS RELATED TO CASTE DISCRIMINATION AND HUMAN RIGHTS CONCERNS.Desh Raj Sirswal - 2011 - In S. M. Atik-Ur-Rahaman & Parveenkumar Kumbargudar (eds.), Developments in Social Sciences. Jaipur, Rajasthan, India: pp. 148-155.
Das Konzept der Menschenwürde und die realistische Utopie der Menschenrechte.Jürgen Habermas - 2010 - Deutsche Zeitschrift für Philosophie 58 (3):343-357.
Human Rights and Human Well-Being.William Talbott - 2010 - Oxford University Press.

Analytics

Added to PP index
2016-04-22

Total views
215 ( #45,258 of 2,438,770 )

Recent downloads (6 months)
17 ( #40,980 of 2,438,770 )

How can I increase my downloads?

Downloads

My notes